ब्रिजेश जी की फाडू कविता … ;)

ब्रजेश जी की फाडू़ कविता…….

कभी-कभी बउराओ यार !
कभी-कभी पगलाओ यार !

चादर तान सुते मुद्दों को ढेला मार जगाओ यार…..
कभी-कभी बउराओ यार ! कभी-कभी पगलाओ यार !

अनगढ़-अटपट-अगड़म-बगड़म-गड़बड़-सड़बड़ गप्प-गुबार
झिझक जनेऊ तोड़ खडे़ हो, हन-हन घनो कि कसै लुहार

शोर बढ़ा है, चौंध बढ़ी है, हाड़ा दल-सी खबरें
गूँगे-बहरे सरजी, किसका-किसका पियाज कतरें

प्रिय-परिकल्पित-अभीष्ट-वांछित, कुछ दिन सब परहेजो
’क’ वर्णी संज्ञाओं को लुइहाओ लानत भेजो

फ़िफ़्थ फ़्लोर की खिड़की से कुछ ताको और खजुआओ
तेज करो थूथुन की बत्ती, कभी-कभी कुछ गाओ

कागज का यह कुआँ, घड़े ! शंकाएँ फिर भी रह जाएँगी
यही किताबें ! यही किताबें !! एकदिन तुमको खा जाएँगी

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s